अपने बच्चे को मोटापे से बचाने के लिए अपनाएं ये 5 बेहतरीन उपाय, रहेगा फिट एंड स्लिम – child obesity causes and ways to prevent kid from this problem in hindi – News18 हिंदी


हाइलाइट्स

बच्चा एक बार में ही बहुत अधिक मात्रा में अपना फेवरेट फूड खाता है तो उसे रोकें.
कम सोने से भी बच्चों में ओबेसिटी की समस्या हो सकती है.

Ways to Save Kid from Child Obesity: आजकल की लाइफस्टाइल में बड़े ही नहीं बच्चे भी मोटापे का शिकार हो रहे हैं. कोरोना महामारी के दौरान जब लॉकडाउन लगाया गया था तो बड़ों के साथ बच्चे भी घर में रहने के आदि हो गए थे. घर में रहकर फिजिकल एक्टिविटीज में उनका ध्यान कम और मोबाइल, लैपटॉप, वीडियो गेम, अनहेल्दी ईटिंग हैबिट्स काफी अधिक बढ़ गया था. हालांकि, अब स्कूल खुले कई महीने हो गए हैं, लेकिन आज भी अधिकतर बच्चे पहले की तरह घर से बाहर जाकर खेलने की बजाय मोबाइल चलाना अधिक पसंद करते हैं. इसका उनकी सेहत पर नकारात्मक असर पड़ रहा है.

बच्चे कम उम्र में ही मोटापे का शिकार हो रहे हैं. बच्चों में मोटापा की समस्या कई रोगों को भी जन्म दे सकता है. ऐसे में पैरेंट्स को बच्चों में हेल्दी ईटिंग हैबिट विकसित करने पर ध्यान देना बेहद ही जरूरी है. बैड और गुड फूड्स, कैलोरी इनटेक, फिजिकली एक्टिव ना रहने के नुकसान के बारे में समझाना होगा. आप यहां बताए गए कुछ तरीकों को अपना कर अपने बच्चों को मोटापे का शिकार होने से बचा सकते हैं. लाइफस्टाइल, खानपान में बदलाव करके उन्हें हेल्दी और फिट रख सकते हैं.

इसे भी पढ़ें: बच्चों में मोटापा बन सकता है हाई बीपी का कारण, ऐसे मैनेज करें लाइफस्टाइल

बच्चों को मोटापे से बचाएंगे ये उपाय

पौष्टिक और हेल्दी हो खानपान
टाइम्सऑफइंडिया डॉट कॉम में छपी एक खबर के अनुसार, बच्चों को कम उम्र से ही सारे पौष्टिक तत्वों से भरपूर चीजों को खिलाना थोड़ा मुश्किल हो जाता है. आप उनके खानपान में शुरू से जो चीज़ें शामिल करेंगे, वे उसे आगे चलकर भी खाएंगे. आप चाहते हैं कि बच्चे हेल्दी और न्यूट्रिशन से भरपूर फूड्स का सेवन करें तो किचन के डिब्बों और फ्रिज में साबुत अनाज, हरी सब्जियां, मौसमी फल, लीन मीट, बींस, अंडा, दूध, दूध से बने खाद्य पदार्थ रखें. इन सभी चीजों में फैट बेहद कम होता है. बच्चे को प्रतिदिन 2 फल और एक हरी सब्जी प्रत्येक भोजन के साथ अवश्य खिलाएं.

बच्चे पानी खूब पिएं
शरीर को हाइड्रेटेड रखने के लिए पानी पीना बहुत ज़रूरी है. हर किसी को एक दिन में 8 से 10 गिलास पानी अवश्य पीना चाहिए. बच्चों को भी पानी पीने की आदत डलवाना पैरेंट्स की ही जिम्मेदारी है. वो स्कूल जाएं या फिर खेलने-कूदने, उन्हें पानी का बॉटल जरूर दें और कहें कि पूरे बॉटल का पानी दिन भर में चार बार ज़रूर पीकर खाली करें. इससे उन्हें रूटीन में पानी पीने की आदत लग जाएगी.

इसे भी पढ़ें: बच्चों के मोटापा से हैं परेशान तो अपनाएं ये टिप्स, पैरेंट्स के बेहद काम के हैं ये नुस्खें, जानिए

भरपूर सोने की आदत डालें
क्या आप जानते हैं कि कम सोने से भी बच्चों का वजन बढ़ सकता है? जी हां, जब आप पर्याप्त नींद नहीं लेते हैं तो भूख बढ़ाने वाले हार्मोंस में बदलाव होता है, जिससे भूख लगने लगती है. जब बच्चे का शरीर थका हुआ होता है तो वे बहुत फुर्तीले नहीं होते. किसी भी तरह की फिजिकल एक्टिविटी के प्रति उत्साहित नहीं होते हैं. ऐसे में बच्चों को उनकी उम्र के आधार पर प्रत्येक रात कम से कम 8 से 14 घंटे की नींद की ज़रूरत होती है. बच्चे के सोने का एक तय समय निर्धारित करें. उनके कमरे की लाइट्स को बंद करके रखें. इलेक्ट्रॉनिक्स डिवाइस को कमरे से बाहर रखें, ताकि उन्हें पर्याप्त नींद लेने में मदद मिल सके.

शारीरिक रूप से बच्चे रहें एक्टिव
डेली रूटीन में शारीरिक एक्टिविटी को शामिल करने की आदत विकसित करें. शारीरिक रूप से जब बच्चे एक्टिव होते हैं तो इससे हड्डियां मजबूत होने के साथ ही इम्यूनिटी बूस्ट होती है. आत्म-सम्मान में सुधार होता है. इतना ही नहीं, बच्चों में मोटापे की समस्या भी नहीं होगी. 5-6 वर्ष से कम उम्र वाले बच्चे को नेचुरल तरीके से घर में ही एक्टिव रहने दें. यदि आप सुबह-शाम टहलने जाते हैं तो अपने साथ बच्चे को भी ले जाएं. बाहर जाकर पार्क में दोस्तों के साथ कोई भी गेम खेलने के लिए बच्चे को प्रतोत्साहित करें.

ओवरईटिंग या बिंज ईटिंग से रोकें
यदि बच्चा एक बार में ही बहुत अधिक मात्रा में अपना फेवरेट फूड खाता है तो उसे ऐसा करने से रोकें. अत्यधिक खाना सेहत के लिए नुकसानदायक है. थोड़े-थोड़े गैप में कुछ भी कम मात्रा में ही खाएं. ऐसा करने से उन्हें देर तक भूख नहीं लगेगी. उनका पेट भरा हुआ रहेगा. इससे वे ओवरईटिंग या बिंज ईटिंग से बच जाएंगे. शाम के समय बच्चों को हेल्दी स्नैक्स खाने के लिए दें. चिप्स, कुकीज, बिस्किट आदि चीजें ना खाने दें वरना मोटापा बढ़ सकता है. बच्चे को चिप्स, मिठाई, चॉकलेट, कुकीज आदि खाने के लिए जानबूझकर भोजन स्किप करने ना दें.

Tags: Health, Lifestyle, Obesity, Parenting



Source link

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *